पापा ही तो थे

January 21, 2020 news desk 0

ठीक एक वर्ष हो गए, जब पापा आज ही के दिन हम सबको छोड़कर चले गए। तब पापा की याद में कुछ कविताएं लिखी थीं। कुछ मित्रों ने उसे संजोने की सलाह दी। तब जाकर ये कविता तैयार हुई। आज उनकी पहली पुण्यतिथि पर पापा को विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए ये कविता दुनिया के सभी पापा को समर्पित कर रहा हूं। फेसबुक पर यह कविता वायरल है। देखिए वीडियो-