क्या भारतीयों के जेनेटिक्स को तहस नहस करके रख दिया गया है?

July 11, 2016 admin 0

एक आतंकी बुरहान वानी का एनकाउंटर हुआ। वो आतंकी जिसने भारतीय सेना को चुनौती दे रखी थी। जिस पर 10 लाख रुपये का इनाम था। जो हिज्बुल मुजाहिदीन का कमांडर था और सोशल मीडिया में सीना ठोककर खुद को आतंकियों का हीरो बनाकर पेश कर रहा था। इतने बड़े एनकाउंटर के बाद इस देश के सवा सौ करोड़ लोगों को कहां सेना को शाबाशी देनी थी, एक सुर में पीठ थपथपानी थी। आतंकियों को सख्त संदेश देना था, लेकिन हालात [More…]

अंबेडकर पर नया दांव? वरिष्ठ पत्रकार के झूठे इंटरव्यू से शुरू की ये सियासत?

June 8, 2016 admin 0

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार राम बहादुर राय के बारे में एक खबर वेबसाइट पर पढ़ी। अंबेडकर जी को लेकर जो बयान प्रकाशित किया गया है, उसे पढ़कर मन विचलित हुआ। वेबसाइट ने ये दावा करते हुए इंटरव्यू छापा है कि ये इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष का ये पहला इंटरव्यू है। इस इंटरव्यू को पढ़ने के बाद दो सवाल मेरे जहन में आए। पहला ये कि जब  वो दो दिन पहले तक [More…]

तीन C पर काम करते हैं केजरीवाल – 1. CONVINCE 2. CONFUSE और 3. CORRUPT

May 10, 2016 admin 0

देश में 29 राज्यों के मुख्यमंत्री हैं और दो केंद्रशासित प्रदेश ऐसे हैं जहां मुख्यमंत्री होते हैं। यानी कुल मिलाकर देश में 31 मुख्यमंत्री हैं। अरविंद केजरीवाल इनमें मुख्यमंत्रियों में से एक हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि जितनी कवरेज अरविंद केजरीवाल नेशनल मीडिया में पाते हैं, उतना तो किसी राष्ट्रीय पार्टी को भी नसीब नहीं हो पाता। स्थिति ये है कि कवरेज के मामले में आम आदमी पार्टी बीजेपी-कांग्रेस को जोरदार टक्कर देती है। नेशनल मीडिया को देखें [More…]

ऑड-ईवेन : केजरीवाल की बड़ी गलती, नई मुश्‍किल में स्‍कूली बच्‍चों के पैरेंट्स?

April 15, 2016 admin 0

दिल्ली में ऑड इवेन की वापसी हो रही है। अच्छी बात है वापसी होनी चाहिए, लेकिन जिस तरीके से कुछ मुद्दों पर केजरीवाल सरकार ने मेहनत नहीं की है, उससे भारी परेशानी होने वाली है। दिल्ली में 15 अप्रैल से 30 अप्रैल के बीच स्कूल खुले हुए हैं। ऐसे में हजारों माता-पिता जो अपने बच्चों को अपनी गाड़ी में स्कूल छोड़ने जाते हैं, उन्हें भी ऑड इवेन से छूट दी गई है, लेकिन स्कूल में बच्चों को छोड़कर वो कैसे [More…]

श्रीनगर NIT और पठानकोट हमले पर मोदी का मास्‍टर स्‍ट्रोक

April 9, 2016 admin 0

नरेंद्र मोदी ने जीवन में कई ऐसे मौके पाए होंगे, जब लोगों ने हर तरफ तारीफ ही की होगी, लेकिन इस समय एक मौका ऐसा आया है, जब उनके कई चाहने वाले भी या तो उनकी बुराई कर रहे हैं या फिर आलोचना कर रहे हैं। लेकिन मेरा मानना जरा अलग है। आप सहमत हो सकते हैं या विरोध कर सकते हैं, लेकिन तर्क जरूरी है। 1.    पहला मुद्दा जिस पर मोदी की सबसे ज्यादा आलोचना हो रही है, वो [More…]

नरेंद्र मोदी का दिमाग कंप्यूटर से भी तेज चलता है..!

March 20, 2016 admin 0

इस शीर्षक को पढ़कर ऐसा लग रहा होगा कि कहीं चाचा चौधरी पर लिखे लेख को तो नहीं पढ़ रहा हूं। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। हां मैंने संदर्भ बिल्कुल वहीं से लिया है। लेकिन ये सब कुछ कहने के पीछे मेरे अपने तर्क हैं। इस तर्क को व्यवहारिकता की कसौटी में परखने की कोशिश करता हूं। दरअसल, मैंने अपनी किताब ‘मोदी मंत्र’ की शुरुआत नरेंद्र मोदी के द्वारा बार-बार दोहराए जाने वाले एक बयान से की है। नरेंद्र [More…]

क्या वक्त नहीं आ गया है कि कांग्रेस को खत्म कर दिया जाए?

March 15, 2016 admin 0

बहुत कम लोगों को पता होगा कि जब देश को आजादी मिली थी, तो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सबसे पहले कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देते हुए कहा था कि कांग्रेस पार्टी को अब खत्म कर देना चाहिए, क्योंकि इसका गठन आजादी के आंदोलन के लिए एक संगठन के रूप में हुआ था। हालांकि कांग्रेस को खत्म तो नहीं किया गया, लेकिन बार-बार इस बात की चर्चा जरूर होती रही। सवाल ये भी उठते रहे कि आखिर राष्ट्रपिता महात्मा [More…]

मोदी विरोध की सनक में देश विरोध पर तो नहीं उतर आया विपक्ष?…इसलिए उठ रहे हैं सवाल!

March 9, 2016 admin 0

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को बेइज्जत करने का विपक्ष के सारे नेता मिलकर कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते, चाहे इसके लिए देश की संसदीय परंपराओं को ध्वस्त करना पड़े, देशद्रोह को भी समर्थन क्यों नहीं करना पड़े या फिर चाहे देश की इज्जत पूरी दुनिया में क्यों न धूमिल करना पड़े। बिना किसी भूमिका के सीधे-सीधे कुछ उदाहरण के जरिये अपनी बात रख रहा हूं। 1-ये लगातार दूसरा मौका है जब राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर संशोधन प्रस्ताव [More…]

तू इस तरह से मेरी ज़िंदग़ी में शामिल है!

February 9, 2016 admin 0

10 दिसंबर 2005 की घटना है। उन दिनों मैं स्टार न्यूज में कार्यरत था। मुंबई के जुहू तारा रोड स्थित रोटरी सेंटर में एक कार्यक्रम की तैयारियां जोर-शोर से चल रही थीं। इस कार्यक्रम के दो हीरो थे। एक निदा फाजली, जिनकी किताब का विमोचन था और दूसरा मैं, जिसे अखिल भारतीय अमृत लाल नागर पुरस्कार का प्रथम पुरस्कार मिलना था। पूरा कार्यक्रम तय करने के अलावा सभी गेस्टों के आदर सत्कार की जिम्मेदारी भी मेरी थी। खास बात ये [More…]

…तो मैं अपना भारतेंदु हरिश्चंद्र अवॉर्ड वापस कर दूंगा

October 19, 2015 admin 0

आतंकवादी सिर्फ वही नहीं होते हैं जो सामान्य तौर पर आम लोगों के बीच खून-खराबा करते हैं, बल्कि इस देश में धीरे-धीरे ऐसे आतंकवादियों के चेहरे से भी नकाब उतर रहा है जिनके हाथ में कोई बंदूक या अत्याधुनिक हथियार नहीं, बल्कि कलम है। ये “बौद्धिक आतंकवादी” हैं। ये आतंकवादी भी विद्रोही किस्म के हैं। देश के लोकतंत्र को ध्वस्त कर देना चाहते हैं। ऐसा लगता है कि इन्हें इस बात पर कतई यकीन नहीं है आम जनता बहुमत से [More…]

1 2 3 4 5